-->

MP ONLINE NEWS

Breaking News

पद्मावत के कारण देश मे अराजकता के लिये कौन है जिम्मेदार करणी सेना या संजय लीला भंसाली???



एक व्यक्ति की मूर्खता एवं जिद के कारण आज पूरे देश में अराजकता का माहौल है और उस व्यक्ति की मूर्खता को ढकने के लिए पूरा मीडिया, न्यायपालिका एवं सरकारे पूरी तत्परता से 15 करोड़ से अधिक राजपूतो की भावनाओं से खिलवाड़ करने को आतुर है । करणी सेना मात्र राजस्थान में पूर्ण रूप से सक्रिय है बाकी गुजरात और मध्यप्रदेश में केवल सीमावर्ती जिलों में ही सक्रिय है किंतु विरोध तो लगभग 8 से 10 राज्य में हो रहा है यह विरोध मात्र करणी सेना नहीं कर रही है इस विरोध में संपूर्ण राजपूत समाज एवं अन्य हिंदू सामाजिक संगठन भी जुड़े हैं फिर भी अगर मीडिया न्यायपालिका एवं सरकार इस ओर ध्यान नहीं दे रही है तो इस विवाद में कुछ तो गड़बड़ है जो हमें बताया नहीं जा रहा है क्योकि एक व्यक्ति जिसके (संजय लीला भंसाली) कारण यह सब हो रहा है उसको इन सब के लिए दोषी क्यों नहीं ठहराया जा रहा है केवल एक पक्ष (करणी सेना) को ही इस विवाद के लिए दोषी क्यों माना जा रहा है जबकि संजय लीला भंसाली से ये सवाल क्यों नहीं पूछे जा रहे हैं जैसे कि :-

1. जब फिल्म की घोषणा की गई तब संजय लीला भंसाली ने यह बयान क्यों दिया था कि वह रानी पद्मावती और अलाउद्दीन खिलजी के बीच प्रेम प्रसंग के दृश्य ड्रीम सिक्वेंस के द्वारा दिखाएंगे ।

2. जब जयपुर में शूटिंग के दौरान उन पर कथित तौर पर करणी सेना द्वारा मारपीट की गई तभी उन्होंने इस विवाद को क्यों नहीं सुलझा लिया और विवाद को हवा देते हुए करणी सेना और अन्य राजपूत संगठनों से संवाद क्यों नहीं किया ।

3. जब 1 दिसंबर 2017 को फिल्म रिलीज की डेट घोषित की गई और फिल्म प्रदर्शन को लेकर विरोध प्रदर्शन उग्र और तेज होने लगे तब जाकर भंसाली ने स्पष्टीकरण वीडियो क्यों जारी किया यह सब उन्होंने पहले ही क्यों नहीं कर लिया ।

4. इतिहासकारों  एवं चित्तौड़ राजघराने  के लोगों को  फिल्म दिखाने के लिए संजय लीला भंसाली अंतिम समय पर ही क्यों राजी हुए वो ऐसा पहले भी तो कर सकते थे ।

5. संजय लीला भंसाली ने सेंसर बोर्ड को फिल्म दिखाए बिना और बिना सेंसर बोर्ड के प्रमाण पत्र के प्राइवेट स्क्रीनिंग कर कुछ पत्रकारों को फिल्म दिखाई जो कि सूचना व प्रसारण नियमों के अनुसार एक दंडनीय अपराध है फिर भी संजय लीला भंसाली पर अब तक कोई कार्यवाही क्यों नहीं हुई ।

6. हर बार संजय लीला भंसाली की फिल्मों में ही विवाद क्यों होता है और उनकी सारी विवादित फिल्में जैसे कि रामलीला, बाजीराव मस्तानी नेगेटिव प्रचार के कारण 100 करोड़ से अधिक कमाने में सफल हो जाती हैं और वहीं दूसरी और उनकी जिन फिल्मों में विवाद नहीं हुआ वह सब फ्लॉप और औसत कमाई ही क्यों कर पाती हैं जैसे गुजारिश, सांवरिया,  खामोशी द म्यूजिकल फ्लॉप हो जाती है और देवदास और ब्लैक जैसी फिल्में औसत प्रदर्शन कर पाती है बिना विवाद के उनकी एकमात्र हिट फिल्म हम दिल दे चुके सनम है ।

7. जब करणी सेना और अन्य राजपूत संगठनों एवं सामाजिक संगठनों द्वारा ज्ञापन रैलियों  एवं हस्ताक्षर अभियान के माध्यम से शांतिपूर्ण रुप से फिल्म का विरोध किया जा रहा था तभी सरकार और प्रशासन द्वारा प्रदर्शनकारियों एवं संजय लीला भंसाली के मध्य मध्यस्ता  कराने का प्रयास क्यों नहीं किया गया और न्यायपालिका ने भी शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शनों का संज्ञान क्यों नहीं लिया ।

8. मीडिया द्वारा करणी सेना और अन्य राजपूत संगठनो एवं सामाजिक संगठनों द्वारा किए जा रहे शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शनों को भी संजय लीला भंसाली का पक्ष लेते हुए अराजक क्यों करार दिया ।

9. पद्मावती या अब पद्मावत हो चुकी फिल्म के कारण आज जो अराजकता का माहौल देश में उत्पन्न हुआ है उसके लिए करणी सेना जितनी जिम्मेदार है उससे कहीं अधिक संजय लीला भंसाली, भारतीय इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, सरकार एवं प्रशासन भी उतना ही जिम्मेदार है ।

10.  संजय लीला भंसाली से उपरोक्त सभी प्रश्नों का उत्तर माँगना चाहिए और फिल्म की घोषणा से लेकर अब तक किए गए उनके व्यवहार की जांच करनी चाहिए और दोषी पाए जाने पर करणी सेना के समान ही दंडित भी किया जाना चाहिए ।


कु. प्रसंग सिंह परिहार
स्वतंत्र लेखक
यह लेखक के स्वयं के विचार है।

No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com