-->

MP ONLINE NEWS

Breaking News

चुनावी मौसम में सक्रिय हुए दावेदार, मऊगंज में चली स्थानीय प्रत्याशी की लहर




रीवा(मऊगंज) : विधानसभा चुनाव में महज सात माह का समय शेष है लेकिन मऊगंज क्षेत्र की राजनीति अभी से गरमाई हुई है जहाँ कांग्रेस से विधायक होने के कारण प्रत्याशी लगभग तय है वही भाजपा में आलम यह है कि कई उम्मीदवार अपनी अपनी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को लुभाने का भरसक प्रयास करते नजर आ रहे है ।।
दूसरी ओर मऊगंज विधानसभा के जनमानस की बात करें तो अपैक्स संस्था द्वारा किये गए सर्वे में ये तथ्य सामने आए है कि जनता की मांग मऊगंज के स्थानीय व्यक्ति की है ।। पार्टी चाहे कोई भी हो मऊगंज का प्रतिनिधित्व करने का मौका मऊगंज के व्यक्ति को मिले ।। स्थानीय व्यक्ति क्षेत्र का विकास अधिक प्रभावी और तत्परता के साथ करेगा ।। जनता का कहना है की जो भी पार्टी उनकी क्षेत्रीय व्यक्ति को उम्मीदवार बनाने की मांग को अनदेखा करेगी तो जनता उस पार्टी व उम्मीदवार का बहिष्कार करेगी साथ ही चुनाव परिणाम पर भी इसका असर पड़ेगा।

ये है भाजपा,कांग्रेस व बहुजन से संभावित दावेदार
लक्ष्मण तिवारी :- मऊगंज से पूर्व विधायक कई बार चुनाव लड़े । 1 बार जनशक्ति के टिकिट पर जीते पर भाजपा से हारे जनता में इनके प्रति भारी असंतोष है कार्यकर्ताओ की लंबी टीम है पर क्षेत्र में जनाधार बहुत कमजोर हो चुका है। बाहरी का ठप्पा ।। चुनाव हारने के बाद क्षेत्र में सक्रियता कम ।। पर पार्टी के नेता के रुप में पहचान ।।
अखंड प्रताप सिंह :- लघु उद्योग विकास निगम के पूर्व अध्य्क्ष भाजपा के टिकिट पर 2 बार चुनाव लड़े दोनों बार ज्यादा वोटों के अंतर से हारे ।। पिछली बार भाजपा की हार में भी कई कार्यकर्ता इनका हाथ मानते है ।। चुनाव हारने के बाद वर्षो तक क्षेत्र से दूरी बना के रखी है अभी पुनः सक्रिय हुए है । पर जनता में भारी विरोध लोगों से जनसंपर्क बढ़ा रहे है ।। पर भाजपा ठाकुर प्रत्याशी चुने इसके आसार बहुत कम है। कारण बसपा ओर काँग्रेस से भी ठाकुर प्रत्याशी होना । और विधानसभा का ब्राह्मण बाहुल्य होना ।
राजेश पांडेय:- बजरंग दल के पूर्व राष्ट्रीय संयोजक रीवा में भाजपा के जनक केशव पांडेय के पुत्र भी मऊगंज में सक्रिय है । पर स्थानीय न होने के कारण उनकी दावेदारी कमजोर पड़ती है । पूर्व में उनके पिता जी भी इस सीट से दो बार चुनाव लड़कर इन्ही कारणों से हारे है । पर क्षेत्र में तगड़ा जनसंपर्क ओर कार्यकर्ता बजरंगदल के रुप में पहले से उपलब्ध है ।
पंकज पांडेय:-एक युवा चेहरा जिसने सबको सोचने पर मजबूर किया है ।। युवा कार्यकर्ताओ की लॉबी पूरी तरह साथ है । मऊगंज के स्थानीय होने के कारण ग्रामीण पृष्ठ भूमि में अच्छी पकड़ । भाजपा युवाओ पर दांव खेलती है तो दावेदार हो सकते है । पर अभी संसय है अनुभव की कमी है और जनता से सीधा संवाद कम है ।। बड़े नेताओं से सीधा संपर्क है और इसका एहसास भी कराते रहे है ।
सत्यमणि पांडेय:- विंध्य की राजनीति के पुरोधा विकास पुरूष   राजेन्द्र शुक्ला जी के करीबी माने जाते है या ये कहे कि उनकी किचिन कैबिनेट के सदस्य इनकी भी स्थानीय प्रत्याशी के रुप में दावेदारी मजबूत है । और बड़े नेताओ से संपर्क भी पार्टी के विभिन्न पदों पर भी कार्य किया है । जनता से सीधा संपर्क भी है और मिलनसारिता भी । अगर टिकिट वितरण में विकास पुरूष अगुआ होते है तो प्रत्याशी बनने के आसार बढ़ जाते है ।। कई छोटे चुनाव हारने के कारण छवि पर असर हुआ है। पर वर्तमान समय मे दमदार दावेदारी प्रस्तुत कर रहे है ।

कांग्रेस से वर्तमान विधायक ही होंगे प्रत्याशी
सुखेन्द्र सिंह बन्ना:- कांग्रेस में प्रत्याशी तय है और वर्तमान विधायक का जनता से सीधा संवाद भी है विवादों से घिरे रहते है पर क्षेत्र में जमीनी नेता के रुप में जाने जाते है कांग्रेस में भी विरोध कम है और कार्यकर्ताओं की लंबी फेहरिश्त भी ।

बहुजन होगी किंग मेकर
मृगेंद्र सिंह सेंगर:- इस बार मऊगंज के चुनाव बहुत दिलचस्प होने के आसार है । कारण मऊगंज विधानसभा में बहुजन का भी अच्छा खासा वोट बैंक होना है ।। ओर बहुजन के संभावित प्रत्याशी ने जनता से सीधा संवाद स्थापित किया है ।।विभिन्न आयोजन की मदद से जनता के बीच गहरी पैठ बना ली है । अब मऊगंज की जनता बहुजन के प्रत्याशी को किंगमेकर के रुप में देख रही है ।

शैलेन्द्र तिवारी (जातिगत आरक्षण विरोधी)
साथ ही एक नया नाम उभर कर सामने आ रहा है इस समय मऊगंज से और ये नाम है शैलेन्द्र तिवारी का। शायद आपके लिए ये नाम नया हो लेकिन बहुत जल्द आप इन्हें जानेंगे। युवा वर्ग के मुद्दों को लेकर जमीनीस्तर पर काफी समय से सक्रीय है कई संगठनों के साथ कार्य किया और कर रहे है। आज देश की आवादी का लगभग 50 % आवादी युवाओ की है और शैलेन्द्र तिवारी पिछले कई बर्षो से युवाओ की समस्याएं और बेरोजगारी को लेकर आवाज उठाते रहे है जितने भी कैंडिडेट है उसमें सबसे ज्यादा पढ़े लिखे है हरिजन एक्ट , जातीगत आरक्षण पे काफी समय से समाज को एक कार रहे है।

राजनीतिक अनुभव नही है लेकिन मऊगंज की जनता और मऊगंज क्षेत्र के लिए कुछ करने का जज़्बा और साहस शैलेन्द्र तिवारी को अन्य कैंडिडेट्स से अलग पहचान दिलाती है । जिस तरीके से बिगत 70 बर्षो से अनुभवी नेताओ ने मऊगंज क्षेत्र का विकाश करने में सफल नही हो पाए है ऐसे में जनता भी अब किसी युवा प्रत्याशी को जिताने का मन बना लिया है । शैलेन्द्र तिवारी का कहना है कि जिस तरीके से मऊगंज की जनता से क्षेत्र से पलायन किया है वो बास्तव में चिंता की विषय है और पूर्व के विधायक जनता का दुख दर्द बाटने में सफल नही हुए।

No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com