-->

MP ONLINE NEWS

Breaking News

रीवा : जेल में कैदी की हुई मौत तो परिजनों को मुआवजा देगी सरकार



रीवा : केन्द्रीय जेल में 2015 से अभी तक में लगभग 29 कैदियों की मौत हो चुकी है। हालांकि इनकी मौत विभिन्न कारणों से हुई है। लेकिन सेंंट्रल जेल में सजा काटने के दौरान हुई आकस्मिक मौत पर परिजनों को सरकार आर्थिक मदद देने जा रही है। अभी तक इस संबंध में आदेश सेंट्रल जेल नहीं पहुंचा है। जिसके चलते परिजनों को आर्थिक सहायता का इंतजार है। जानकारी दी गई है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश अनुसार यह निर्णय लिया गया है। इससे मृत कैदियो के परिजनों को काफी राहत मिलेगी।

बताया गया है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश अनुसार सेंट्रल जेल में मौत के दौरान कैदियों के आश्रित परिवार को एक लाख रुपए तक की आर्थिक सहायता दी जानी है। इस आदेश के परिपालन में जेल प्रबंधन ने वर्ष 2015 से अब तक जेल में आकस्मिक मृत्यु वाले 29 कै दियों की सूची तैयार की है। इन कैदियों का प्रस्ताव भी जेल मुख्यालय को भेज दिया है लेकिन अभी तक मंजूरी नहीं मिलने के कारण परिवार के लोगों को आर्थिक सहायता नहीं मिल पाई। गौरतलब है कि इससे पहले जेल में कैदी की मृत्यु होने के बाद परिजनों को कोई आर्थिक सहायता देने का प्रावधान नहीं था।

22 फीट ऊंची होगी जेल की दीवार
सेंट्रल जेल के दीवार की ऊंचाई कई स्थानों में सडक़ की ऊचाई बढऩे से घट गई है। कई जगह में दीवार की ऊंचाई 14 फिट से भी कम रह गई है। जिससे अब सेंट्रल जेल की ऊंचाई 22 फिट तक बढ़ाने का प्रस्ताव भेजा गया है। वहीं टॉवर का काम लोक निर्माण विभाग द्वारा प्रांरभ नहीं किए जाने पर जेल प्रबंधन ने नाराजगी जताई है। कहा गया है कि टॉवर निर्माण का काम तय समय सीमा में नहीं हो पा रहा है। जिससे जेल प्रबंधन को दिक्कत हो रही है। जेल में निर्माण का कार्य जल्द पूरा किए जाने का निर्देश दिया गयाहै

No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com