-->

MP ONLINE NEWS

Breaking News

ब्रह्म समागम 51 जिलों में एक साथ करेगा आरक्षण का विरोध, सपाक्स भी होगा शामिल



भोपाल : ब्रह्म समागम जन कल्याण समिति,प्रगतिशील ब्राह्मण संस्था एवं सपाक्स सहित कई संगठनों के बैनर तले समाज के हजारों लोग आरक्षण के विरोध में लगातार जल सत्याग्रह, हवन आदि कार्यक्रम कर रहे हैं। इसी कड़ी में समाज के लोग सीएम शिवराज के क्षेत्र में आरक्षण का विरोध करते हुए मुंडन कराएंगे। साथ ही प्रदेश के सभी जिलों में एकसाथ आरक्षण के विरोध में आवाज बुलंद करेंगे। ब्रह्म समागम के अध्यक्ष पं. धर्मेन्द्र शर्मा कक्का ने जनप्रतिनिधियों और सरकार को चेताया कि वे केवल आरक्षण का समर्थन करके सरकार नहीं बना पाएंगे। सभी राजनीतिक पार्टियों को सवर्णों के प्रति अपना मत स्पष्ट करना पड़ेगा। आजादी के बाद आरक्षण 10 साल के लिए लागू किया गया था, लेकिन उसे 70 साल हो गए। इसके बावजूद पार्टिया दलितों और सवर्णों को लड़ाकर अपनी राजनीतिक रोटियां सेंक रहीं हैं। इसलिए अब सवर्णों को एकता का परिचय देने की आवयश्कता है। सभी सवर्ण संगठन सरकार से मांग करेंगे कि आरक्षण आर्थिक आधार पर होना चाहिए। पदोन्नति में आरक्षण पूरी तरह समाप्त होना चाहिए।

10 जून को ब्रह्म समागम जन कल्याण संगठन मध्यप्रदेश के सभी 51 जिलों में सभी संवर्ण संगठनों को एक मंच पर लाकर आरक्षण के खिलाफ बिगुल फूंकेगा। इस दिन सभी जिलों में पंडित, वैश्य, ठाकुर, राजपूत सहित सभी सवर्ण समाज के प्रबुद्ध लोग सुबह 11:30 बजे से एक बजे तक जातिगत आरक्षण को समाप्त करने के लिए विरोध जताएगा। ब्रह्म समागम के अध्यक्ष पंडित धर्मेन्द्र शर्मा कक्का सैकड़ों लोगों के साथ मुख्यमंत्री के गृह क्षेत्र बुदनी में सूर्य कुंड, नर्मदा नदी के किनारे मुंडन कराएंगे। ब्रह्म समागम मुंडन के बालों को एकत्रित कर इसे राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, वर्ल्ड बैंक और संयुक्त राष्ट्र संघ भेजकर आरक्षण का व्यापक तौर पर विरोध दर्ज कराएगा।

वही सपाक्स युवा संगठन के प्रांतीय उपाध्यक्ष प्रसंग परिहार ने कहाँ की जो भी संगठन जातिगत आरक्षण का विरोध एवं आर्थिक आधार पर आरक्षण का समर्थन करते है सपाक्स उन सभी संगठनों के साथ कंधे से कन्धा मिलकार खड़ा है।

धर्मेन्द्र शर्मा का कहना है कि ब्रह्म समागम इस अनूठे विरोध की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी कराकर इसे गिनीज बुक आॅफ रिकाॅर्ड में दर्ज कराने के लिए भेजेगा। शांति पूर्ण तरीके से विरोध कर आरक्षण को समाप्त करने के लिए सरकार से मांग की जाएगी। उन्होंने सभी जिलों के सवर्ण समाजिक संगठनों से इस विरोध प्रर्दशन में शामिल होने की अपील की है।

No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com