-->

Breaking News

विश्व स्तनपान सप्ताह 1 अगस्त से 7 अगस्त तक कार्यशाला में दी गई गतिविधियों की जानकारी

विश्व स्तनपान सप्ताह 1 अगस्त से 7 अगस्त तक

कार्यशाला में दी गई गतिविधियों की जानकारी

अनूपपुर / प्रदीप मिश्रा -8770089979

विश्व स्तनपान सप्ताह 2018 अंतर्गत जिला मुख्यालय के कलेक्टर सभागार में 30 जुलाई 2018 को जिला कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती मंजूलता सिंह महिला एवं बाल विकास अनूपपुर एवं स्वास्थ्य विभाग से डॉक्टर एस0बी0 चैधरी डीएमसीएचओ, श्रीमती अमोली सहायक संचालक, परियोजना अधिकारी श्रीमती आठिया, विकास खण्ड चिकित्सा अधिकारी कोतमा, जैतहरी एवं पुष्पराजगढ, बीपीएम, बीसीएम, तथा बीईई एवं नर्सिगं स्टाफ की उपस्थिति में आईवाईसीएफ के व्यवहारो का क्रियान्वयन कराने हेतु आईवाईसीएफ उन्मुखीकरण कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में जिला कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती सिंह द्वारा स्तनपान सप्ताह के उद्देश्य, महत्व एवं इस वर्ष स्तनपान सप्ताह की थीम ठतमंेज थ्ममकपदह थ्वनदकंजपवद व िसपमि  यानि स्तनपान जीवन का आधार हैं। इसका मुख्य उद्देश्य लोगो में इस बात की प्रति जागरूकता बढे कि स्तनपान बच्चों को स्वास्थ्य प्रदान करने का एक सर्व श्रेष्ठ माध्यम है। सप्ताह अंतर्गत आंगनवाडी केन्द्र स्तर पर भी दिनांक 1 से 7 अगस्त तक की जाने वाली गतिविधियो की जानकारी विस्तृत रूप से दी गई की चिन्हित गर्भवती, धात्री माताओ को स्तनपान शिशु का बेहतर पोषण है, 6 माह तक केवल स्तनपान की समझाईस, संका समाधान परिवारो को सपथ दिलाना, रैली/नुक्कड नाटक का आयोजन कर गॉव में प्रचार प्रसार कर जनचेतना लाई जायेगी। डॅा चैधरी द्वारा जानकारी दी गई कि गॉव में अज्ञानता के कारण जन्म के 1 घण्टे के अन्दर स्तनपान कराने का महत्व नही समझ पाते है जिसके लिये विभाग द्वारा निरतंर समझाईस की आवश्यकता है। जबकि जिले में संस्थागत प्रसव का प्रतिशत 80 है। चैधरी द्वारा यह भी बताया गया की मॉ पहला गाढा-पीला दूध बच्चे के लिये पहला टीकाकरण है यह पीलिया, निमोनिया, शरीर ठंठा पडना, दस्त आदि से सुरक्षा करता है 6 माह तक केवल मॉ दूध एक सम्पूर्ण आहार है जो कुदरती शक्ति देता है, पानी, शहद, घुट्रटी उपरी दूध आदि की बिल्कुल आवश्यकता नही है।   आईवाईसीएफ अंतर्गत व्यवहारो का क्रियान्वयन कराने हेतु विभिन्न पहलुओ पर प्रोजेक्टर के माध्यम से श्रीमती गरिमा श्रीवास्तव एफडी पोषण पुर्नवास केन्द्र जैतहरी द्वारा जानकारी दी गई।


No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com