-->

Breaking News

सपाक्स का भिंड जिला स्तरीय सम्मेलन सम्पन्न



भिंड : सपाक्स के संरक्षक एवं पूर्व आईएएस तथा सूचना आयुक्त हीरालाल त्रिवेदी ने कहा कि समाज के हर वर्ग में गरीब तबका है फिर आरक्षण का लाभ जातिगत आधार पर चंद लोग ही पीढ़ी दर पीढ़ी उठाते आ रहे हैं। इससे चाहे सामान्य वर्ग का हो या अनुसूचित जाति वर्ग का गरीब हो, आरक्षण का लाभ नहीं मिल पा रहा है। मेधावी छात्र योजना के इश्यू को जब उठाया गया तब सरकार ने 75 प्रतिशत से अधिक पाने वाले छात्रों को लैपटॉप का प्रावधान किया। सामान्य वर्ग के बच्चों को आज भी बढ़ी हुई फीस देना पड़ रही है। छात्रावासों में सभी वर्ग के बच्चों को प्रवेश देना चाहिए जिससे जातिवाद पनपना बंद हो। उन्होंने कहा कि आरक्षण के मुद्दे पर कोई सांसद माई का लाल साबित नहीं हुआ है। कोई भी सरकार हो सब उनके लिए ही काम कर रही हैं। जबकि राम मंदिर बनाने, धारा 370 खत्म करने, समान कानून और समान आचार संहिता की बात करने वालों को अपने वादे पर खरा उतरना चाहिए। सरकार को चाहिए पहले दोष दूर करे। जाति आधार पर आरक्षण खत्म कर आर्थिक आधार पर लागू करे। संरक्षक ने आगे कहा कि जो राजनैतिक दल सपोर्ट नहीं कर रहे हैं तब समाज से संगठित होकर आवाज उठना चाहिए।

सपाक्स संगठन ने एससी एसटी अत्याचार निवारण अधिनियम में संशोधन के विरोध में राष्ट्रपति के नाम संबोधित ज्ञापन एडीएम तरुण भटनागर को सौंपा। इसमें सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दिए गए निर्णय को प्रभाव शून्य करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा लगाए गए संशोधन बिल को मौलिक अधिकारों का हनन करने वाला तथा समानता के अधिकारों के विपरीत बताया है। यह सामान्य, पिछड़ावर्ग और अल्पसंख्यक को बिना जांच जेल में बंद करने की अनुमति देता है। देश में वर्ग संघर्ष की स्थिति निर्मित हो रही है। अत: इस काले कानून को समाप्त किया जाना चाहिए। एसपी रूडोल्फ अल्वारेस को सौंपे गए ज्ञापन में कहा गया है कि बिरखड़ी में अध्यापक अर्चना सोनी व सरपंच जेपी शर्मा सहित अन्य लोगों द्वारा दबाव में दर्ज किए गए मामले में खात्मा रिपोर्ट लगाई जाना चाहिए। क्योंकि इस मामले को प्रभाव एवं दबाव में कायम कराया गया है। इस मौके पर बाबा भगवानदास सेंथिया, टीकमसिंह कुशवाह, राकेश शर्मा, सत्यभान भदौरिया, मुकेश दीक्षित, विजयवीर सिंह, गणेश राजावत, अजय कुमार, अनिल बौहरे, गिर्राज तोमर, विवेक पचौरी सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com