-->

Breaking News

बस स्टैण्ड राजेन्द्रग्राम यात्रीयों की परेषानी का अड्डा

बस स्टैण्ड राजेन्द्रग्राम यात्रीयों की परेषानी का अड्डा

अनूपपुर/ प्रदीप मिश्रा -8770089979

मुख्यालय राजेन्द्रग्राम मे बना बस स्टैण्ड अपनी बदहाली के आंसू रो रहा है 100 से अधिक बसांे के ठहराव की यह जगह दलदल और कीचड़ से सनी गंदगी मे तबदील हो चुका है भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्रमोदी का स्वच्छता अभियान यहा दम तोड़ता दिखाई देता है चारो तरफ गंदगी भरे वातावरण मे यात्री बसों का इंतजार करते है लाखों का राजस्व देने वाला 119 ग्रामपंचायतों का एक मात्र यह बसस्टैण्ड करोड़ो की लागत से बना है पं. दीनदयाल उपाध्याय के नाम से राजेन्द्रग्राम के इस बस स्टैण्ड का नामकरण कर इसकी षुरुआत धूमधाम से किया गया था अब यह मूलभूत सुविधाआंे के आभाव मे खण्डहर नुमा इमारत मे तबदील हो गया है यहा गंदगी ही गंदगी भरी पड़ी है जिसका सुध लेने वाला कोई नही है इस इमारत के चारो ओर जहां यात्री बसांे की प्रतीक्षा करते है वहां बारिस का कीचड़ होटलो से निकला गंदा पानी मास के टुकड़े जानवरो के मलमूत्र उनका स्वागत करते मिलते है पुष्पराजगढ़ मे प्रायः सभी प्रकार के कार्यालयो के मुख्यालय संचालित है जिससे दूर दराज के ग्रामीणो को अपने काम हेतु राजेन्द्रग्राम आना पड़ता है यहां तक आने का एक मात्र साधन सड़क है जिसमे चलने वाली सार्वजनिक परिवहन के बस टैक्सी आटो प्रमुख है जिनके ठहराव की जगह आज अस्त व्यस्त हो चुकी है जिसके ओर किसी का ध्यान नही जा रहा है षासन प्रषासन को आइना दिखाता पं. दीनदयाल राजेन्द्रग्राम बस स्टैण्ड अपने साथ हुई बेरुखी के लिए जाना जाता है ।

 मूलभूत सुविधाओ का आभाव

राजेन्द्रग्राम मे बना पं दीनदयाल उपाध्याय बसस्टैण्ड परिसर मे मूलभूत सुविधाआंे का आभाव है जैसे सार्वजनिक लाइट की व्यवस्था स्वच्छ पेयजल साफसफाई षौचालय आदि व्यवस्थाआंे के न होने से यात्रियांे को भारी परेषानी का सामना करना पड़ता है जहां एक ओर पूरे भारत वर्ष मे षौचालय बनाए जा रहे है वही दूसरी तरफ राजेन्द्रग्राम के इस बस सटैण्ड मे षौचालय का आभाव है पुराना बना एक षौचालय किसी तरह से संचालित किया तो जाता है पर वहां के गंदगी भरे वातावरण मे महिलाएं जाने से कतराती है षौचालय के नाम से बना यह भवन खंडहर मे तबदील हो चुका है जिसकी दीवारो पे दरारे साफ दिखाई पड़ती है इस बस स्टैण्ड मे सार्वजनिक षुद्ध पेयजल की व्यवस्था नही है जो हैण्डपम्प यहां संचालित है उनमे गंदा और बदबूदार पानी आता है कारण नाली के पानी का जमाव उचित निकासी न होने के कारण इन हैण्डपम्प के चारो तरफ हो जाता है पीएचई विभाग इन हैण्डपंम्प पर जल षुद्धीकरण हेतु किसी भी प्रकार का प्रयास नही करती है बस स्टैण्ड परिसर मे लाईट की उचित व्यवस्था न होने पर षाम से ही अंधेरा होने लगता है दूरदराज के यात्री अकेले मे डर अनुभव करते है।

बारिस से और गंदा हुआ बसस्टैण्ड परिसर

बारिस के इस मौसम मे पहले से ही गंदा यह परिसर और भी गंदगी मे तबदील हो गया है बारिस के पानी से चारो तरफ पड़ी कच्ची मिट्टी कीचड़ों मे तबदील हो चुकी है ऐसे मे बेतरतीब तरीके से लगी गुमटियो पे दुकाने यात्रीयो की परेषानी कई गुना बढ़ाती है जहां इन दुकानो की वजह से सुनिष्चित जगह पर बस खड़ी नही हो पाती वही यात्रियो कांे भी पानी मे भीगकर कीचड़ो से सने परिसर से गुजरकर बस पकड़ना पड़ता है टैक्सी स्टैण्ड भी इसी परिसर पर होने से टैक्सियां भी अव्यवस्थित अपनी सुविधा के अनुसार खड़ी रहती है वाहन मालिक तो अपनी मनमाफिक जगह का चुनाव कर वाहन खड़ा कर लेते है किन्तु यात्री तेज रफतारो से निकलती हुई बस टैक्सी के बीच से जान जोखिम मे लेकर अपने बसों तक पहुंचते है वर्षो से यही क्रम चलता आ रहा है लेकिन यह परिसर इसी तरह संचालित होने के लिए मजबूर है षासन प्रषासन कोई भी इसके रखरखाव व संचालन के प्रति गंभीर नही है ।

अवैध बने होटलो से दिनभर बहता है गंदा पानी

बसस्टैण्ड परिसर मे अवैध रुप से कब्जा कर कई होटल मालिक होटलो का संचालन करते है नालियो की उचित व्यवस्था न होने से इन होटलो से निकलने वाला गंदा और बदबूदार पानी बारह महीने सड़को पर बहता रहता है इससे राहगीरो को परेषानी का सामना करना पड़ता है साथ ही बीमारियों का डर भी बना रहता है ये होटल संचालक अवैध कब्जा कर पहले बनी नालियो को पाटकर उस स्थान मे लंबी चैड़ी जगह मे टेबिल कुर्सी फ्रीज आलमारी आदि से सुसोभित कर अपने होटलो का संचालन करते है फिर इन्ही होटलो से निकलने वाला मल्वा गंदा पानी सड़को पर डाल देते है जिससे हमेषा गंदगी बनी रहती है अनाज के टुकड़ो की सड़न की वजह से हमेषा बदबूदार वातावरण उक्त परिसर मे बना रहता है ये बेतरतीब खोले गये होटलों का साथ गुमटी के लगे फ्रूॅट्स सेन्टर संचालक देते है ये भी स्टैण्ड परिसर को आधा अपने कब्जे मे लिये हुए है इनकी वजह से पाॅलीथिन आदि का बिखराव सड़को पर होता है साथ ही सड़े हुए फलो को किनारे न डाल कर परिसर मे ही और सड़ने के लिए फेक दिया जाता है बिना स्वीकृती खुले मे मास जानवरो का मास बेचने वाले गंदगी के इस वातावरण को और गंदा कर देते है इनके द्वारा कच्चे मांस के बचे टुकड़े मन मर्जी से फेंक दिया जाता है और ये भी सड़कर बदबू बढ़ाने का काम करते है

 इनका कहना है

मै दिखवा लेता हू अगर होटलो का पानी सड़को पर आ रहा है तो साफ सफाई कराई जाएगी

पंकज नयन तिवारी तहसीलदार पुष्पराजगढ़

मै अभी जिला पंचायत मे हूं आकर मौके का निरीक्षण कर साफ सफाई कराता हूं

सचिव ग्राम पंचायत षुक्ला यादव


No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com