-->

Breaking News

प्रधानमंत्री स्वच्छ शौचालय ठेकेदारी पर हो रहा कार्य टारगेट पूरा करने का मात्र दिखावा शौचालय उपयोग नही।

प्रधानमंत्री स्वच्छ शौचालय ठेकेदारी पर हो रहा कार्य टारगेट पूरा करने का मात्र दिखावा

शौचालय उपयोग नही।

अनूपपुर/ प्रदीप मिश्रा -8770089979

राजेन्द्रग्राम, पुष्पराजगढ़ जनपत पंचायत में जहाॅं 119 पंचायतें है। वहीं पंचायतें प्रधानमंत्री स्वक्ष शौचालय के कार्यों को टारगेट पूरा करने को ठेकेदारी प्रथा चलाने की षिकायते प्राप्त हो रही है। जहां पंचायते कार्य करने को अपना समय नही दे पाती। वहां ठेकेदारी प्रथा से कार्य कराया जा रहा है। यहां हम बता दे की इस कार्य को स्वसहायता समूह की भी मदत ली जा रही हैं। बताया जाता है। कि प्रधानमंत्री स्वक्ष शौचालय की लागत जहां बारह हजार रूपये है। वहीं ठेकेदार मात्र छः हजार आठ हजार रूपये मात्र में बना कर स्वक्ष शौचालय देने को तैयार है। उरोक्त ठेकेदारी पर बना प्रधानमंत्री स्वक्ष शौचालय कितना उपयोगी कितना गुणवत्ता पूर्ण होगा यह एक विचारनीय प्रष्न है। जहां यह देखा गया हैं कि ठेकेदारी पर बनाए जा रहे प्रधानमंत्री स्वक्ष शौचालय जो कहीं दिवार मात्र हैं। एंव सीट तथा फाटक लगा दिया गया हैं किन्तु स्वक्ष शौचालय में आज तक मुर्गा नही बैठाया गया ना ही पाईप लगाया गया ऐसे में स्वक्ष शौचालय कितना उपयोगी हेागा। यह एक विचारनीय है, वहीं ग्राम पंचायतें अपना टारगेट पूरा करने को शौचालय के फोटो लेकर शौचालय पूर्ण हो गया पूर्ण का प्रतिवेदन प्रस्तुत कर रहे है। उदाहर्णाथ जनपत पंचायत पुष्पराजगढ़ से महज छः किलो मीटर दूर ग्राम पंचायत जीलंग है। जहां बनाए गए स्वक्ष शौचालय के कार्यो को देखा जा सकता हैं कि कितने गुणवत्तापूर्ण एंव उपयोगी हैं।

शौचालय से बंचित बैगा ग्राम (भाटीबहरा) 

यहां यह बताना उचित होगा की जनपत पंचायत पुष्पराजगढ़ से महज 10 किमी. दूर ग्राम पंचायत मझॅगवा जिसका टोला ग्राम भाठीबहरा जहां बैगा जनजाति के 70 घर के लोग निवास करते है। जहां उपरोक्त पंचायत मझॅगवा के टोला ग्राम भाटीबहरा में भारत को स्वतंत्र हुए 70 साल बीतने के बाद भी बैगा ग्राम भाटीबहरा जहाॅ साषन एंव प्रषान के सूची से अलग है। जहाॅ आज तक विकास कि किरण पहुॅचने में 21वी शदी को बीत जाने का इन्तजार करना पडेगा। वहीं शासन प्रषान ने धोखे से एक बैकलपित शाला खोल दी गई थी। वह विकास के नाम पर प्राथमिक शाला में उन्नयन हो गई बैगा ग्राम भाटीबहरा की यह विकास की गती है। उपरोक्त बैगा ग्राम पहंुचने में पंचायत मंझगवा से मात्र ड़ेढ किमी. दूर जाना पडता हैं। जहां आज तक पंचायत मझंगवा द्वारा कोई निर्माण कार्य बैगा ग्राम के लिए किया जाना साप बना हैं। वहीं उपरोक्त ग्राम कभी ग्राम पंचायत अचलपुर में था। वहां के सरपंच बहोरी सिंह जो अब स्वर्गीय हो गए है। उन्होने उपरोक्त बैगा ग्राम में तलाब विकास के नाम पर कार्य निमाणर््ा करवाया गया था। तब से आत तक बैगा ग्राम भाटीबहरा में विकास की किरण नही पहुंच पाई,

नही है बिजली न हैडंपम्प न ही रोड़

जैसा कि देखा गया है कि जहां आज देष 21वी शदी में प्रवेष कर अपनी स्वतंत्रता का अलख जगा रहा है। वही लुप्त हो रही बैगा जनजाति की सुधि लेने वाले आज तक कोई सामने नहीं आए वहीं बैगा जनजाति के नाम पर शासन अरबो-खरबो रूपये र्खच कर उपरोक्त जात को विकसित करने,उन्हें विकास के पथ पर लाने को घोषणा पर घोषणा की जा रही हैं। वहीं उपरोक्त ग्राम भाटीबहरा ग्राम पंचायत मझंगवा में आखिर कार शासन एंव प्रषान 70 घर आवादी बैगा ग्राम के लोगों का विकास करने को क्येां अनदेखी कर नजर अंदाज किया जा रहा हैं। यह एक विचारनणी हैं जहा उपरोक्त ग्राम भाटीभहरा में आज तक न ही बिजली पहंुची न ही आज तक हैंडपम्प का खनन हुआ न ही रोड का निर्माण कार्य हुआ। स्वच्छ शौचालय बनना तो दूर वहीं मात्र वैकल्पित शाला से उन्नयन प्राथमिक शाला जहां छोटे -छोटे बैगा जनजाति के नैनिहाल षिक्षा ग्रहण करते हैं। प्राथमिक शाला के बाद ड़ेढ़ किलो मीटर दूर मजगांवा के माध्यमिक शाला में किचड़ युक्त बरसाती नाले को पार कर शिक्षा प्राप्त करते हैं,क्या शासन प्रषासन बैगा ग्राम भाटीबहरा को विकास की कडी में जोडने को अपना शाहसिक कदम उठा सकेगा जिसकी बैगा जनजाति ग्राम भांटीभहरा के 70 घर के आवादी के लोग आज भी विकास के किरण की प्रतिक्षा में है। 

No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com