-->

MP ONLINE NEWS

Breaking News

Satna News : सपाक्स का जिलास्तरीय सम्मेलन सम्पन्न, सपाक्स समाज संरक्षक हीरालाल त्रिवेदी मुख्य रूप से रहे उपस्थित



सतना : सपाक्स, सपाक्स समाज एवं सपाक्स युवा संगठन का जिला स्तरीय सम्मेलन सतना में सम्पन्न हुआ। रीवा रोड स्थित कश्यप पैलेस में बैठक का आयोजन किया गया। पधाधिकारियों ने आर्थिक आधार पर आरक्षण देने एवं पदोन्नति में आरक्षण ख़त्म करने के लिए आवाज बुलंद की। सरकार द्वारा SC ST एक्ट में दोबारा संसोधन को लेकर पदाधिकारियों ने सरकार की मंशा पर सवाल उठाते हुए कहा कि सरकार जाति के आधार पर समाज को बांटने का काम कर रही है सभी ने इसे ख़त्म करने की मांग की।

 इसमे मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व राज्य सूचना आयुक्त व सपाक्स संरक्षक हीरालाल त्रिवेदी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान स्थिति में कोई भी राजनीतिक दल आरक्षण की विकृतियों को सुधारने को तैयार नहीं है। अब तीसरे विकल्प का समय आ गया है और इस कमी को सपाक्स पूरा कर सकता है।

हीरालाल त्रिवेदी ने बैठक में बताया  कि केन्द्र में 50% आरक्षण की सीमा में 27% पिछड़ा, 12.5% एसटी और 10% एससी को है परंतु म प्र में अनुपातिक रूप में एसटी /एससी में कमी ना कर केवल पिछड़ा वर्ग में 13% की कटौती कर 14% ही आरक्षण दिया। यदि शिवराजजी पिछडो के सच्चे हितैषी है तो पिछड़ा वर्ग को 27 % कोटा पूरा देना चाहिए था।

हीरालाल त्रिवेदी ने बताया कि सीधी  से सतना चार घंटे में पहुंचे। कार्यक्रम में एक घंटा लेट पहुंचने के लिए उन्होंने खेद व्यक्त किया कि और व्यंग करते हुवे कहा कि  अमेरिका से अच्छी सडक पर आने के कारण उन्हें देरी हुई।

बैठक को संगठन के प्रांतीय  संयोजक इंजी. पी एस परिहार ने भी संबोधित किया। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद अच्छा यह होता कि सभी दलों के सभी वर्गों के प्रतिनिधि लेकर आम सहमति से ऐसा संशोधन लाना था कि बहुसंख्यक वर्ग को भी न्याय मिलता। परन्तु केवल रामविलास पासवान एवं अजा के कुछ मंत्रियों एवं सांसदों के दबाव में काला कानून एट्रोसिटी बिल संसद में प्रस्तुत कर दिया। और सबसे शर्मनाक बात यह है कि एट्रोसिटी बिल पर चर्चा के दौरान सपाक्स वर्ग का कोई सांसद *माई का लाल* नही निकला, जो सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का सम्मान करते हुए उसमे संशोधन की मांग करता।

बैठक में स्थानीय पदाधिकारियों सपाक्स जिलाध्यक्ष आलोक त्रिपाठी, सपाक्स समाज जिला अध्यक्ष मनीष दिवेदी, युवा जिला अध्यक्ष नीरज मिश्रा, अधिवक्ता संघ अध्यक्ष नारायण गौतम, रितेश त्रिपाठी, धर्मेंश चतुर्वेदी, एके सिंह, विकास पाण्डे, प्रदीप गौतम और रावेंद्रसिंह परिहार ने अपने सुझाव दिए। इस अवसर पर  सामान्य, पिछड़ा वर्ग एव अल्पसंख्यक समाज के कई  गणमान्य नागरिक एव युवा उपस्थित रहे।











No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com