-->

Breaking News

40 दिन 40 सवाल : आज तीसरा दिन, मामा ,मुखौटा लगाकर वोट क्यों लिया ?



भोपाल : कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के 40 दिन 40 सवाल का आज तीसरा दिन है। पहले दिन कमलनाथ ने शिवराज सरकार को स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर घेरा था और दूसरे दिन घोषणाओं और उनकी जमीनी हकीकत को लेकर सवाल उठाए थे।लेकिन आज कमलनाथ ने सवालों को तीसरे दिन महिला सुरक्षा को लेकर घेराव किया है। तीसरे दिन कमलनाथ ने शिवराज पर एक के बाद एक कई सवाल दागे है। नाथ ने पूछा है कि मामा मुखौटा लगाकर वोट क्यों लिया?.. माँ-बहन-बेटियों का जीवन अंधकार से क्यों भर दिया ?...मध्यप्रदेश को 'अंधेरगर्दी-चौपट राज ' में क्यों बदल दिया ? सवालों में कमलनाथ ने महिला अत्याचार, बलात्कार,छेड़छाड़, अपहरण जैसे घटनाओं का आंकड़ों के साथ जिक्र किया है।

कमलनाथ ने अपने ट्वीटर पर लिखा है कि

- सवाल नंबर तीन -

मामा ,मुखौटा लगाकर वोट क्यों लिया ?

माँ-बहन-बेटियों का जीवन अंधकार से क्यों भर दिया ?

मध्यप्रदेश को 'अंधेरगर्दी-चौपट राज ' में क्यों बदल दिया ?

मोदी सरकार से जानिए मामा के मुखौटे का राज;


असुरक्षित नारी और भय का साम्राज्य : -

1) मामा राज के 13 वर्षों में 2,41,535 महिलाएं अपराधियों का शिकार हुईं।मामा के सत्ता में आने के बाद 2004 से 2016 में  महिला अपराधों में 74.99% वृद्धि हुई।

2) महिलाओं के अपहरण की घटनाओं में 755% की वृद्धि हुई।2004 में 584 अपहरण होते थे,वे बढ़कर 2016 में 4994 प्रति वर्ष होने लगे

25,566 महिलाएं अपहरण का शिकार हुई है।

3) मामा राज में नाबालिग बच्चियों के साथ बलात्कार 249 % बढ़ गए ।2004 में - 710 बलात्कार से 2016 में 2479 बलात्कार प्रतिवर्ष । 17986 नाबालिग बच्चियाँ बलात्कार की शिकार ।मामा राज ( 2004 - 2016) में 46317 बलात्कार ।

4) मामा राज के 13 वर्षो में अराजक तत्वों , अवसाद और आर्थिक तंगी की वजह से 27 हज़ार 457 महिलाओं ने आत्महत्या कर ली ।

5) मामा राज में 93 हज़ार 479 महिलाएं छेड़छाड़ का शिकार हुईं ।

6) वर्ष 2004 में महिलाओं के प्रति हुए अपराधों के अदालत में लंबित मामले - 6 हज़ार 733 ।

2016में महिलाओं के प्रति हुए अपराधों के अदालत में लंबित मामले-85,383।मामा के राज में बहनों के साथ अन्याय में वृद्धि हुई-1168%

7)2016में 14007महिला अपराधों में अदालतों में परीक्षण पूरा हुआ और मामा सरकार की कमज़ोर दलीलों की वजह से 10,119अपराधी छोड़ दिये गए।सज़ा दर मात्र 27.8

8)मामा सरकार के महिला एवं बाल विकास विभाग ने 2004-05 से 16-17 तक 27,590 करोड़ का बजट आवंटित किया मगर इसमें से मामा ने बहनों-भांजियों के संवैधानिक हक़ के 5402करोड़ खर्च ही नहीं किये

9)मामा के राज में मप्र में 32%नाबालिग बच्चियों की शादी होती है जिनका भविष्य अंधकारमय हो जाता है


सोर्स :-

केंद्रीय ग्रह मंत्रालय (NCRB), ऑडिटर जनरल, NFHS - 4


-40 दिन 40 सवाल-

"मोदी सरकार के मुँह से जानिए,

मामा सरकार की बदहाली का हाल।"

'हार की कगार पर,मामा सरकार'

No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com