-->

Breaking News

पदोन्नति में अराक्षण : सुप्रीम कोर्ट में मध्यप्रदेश की सुनवाई में लगेगा समय



भोपाल : पदोन्नति में आरक्षण प्रकरण सुनवाई हेतु मान सर्वोच्च न्यायालय में दिनांक 2 नवंबर 2018 को सूचीबद्ध हुआ है। चूंकि सभी राज्यों/ केंद्र शासन की याचिकाएं एक साथ एक ही बेंच को गई हैं जिन पर अलग अलग विचार किया जावेगा अत: मप्र का प्रकरण आने में अभी समय लगेगा।

उल्लेखनीय है कि दिनांक 30.04.2016 को मप्र उच्च न्यायालय ने मप्र पदोन्नति नियम 2002 खारिज कर दिए थे तथा गलत पदोन्नति अनु जाति/ जनजाति वर्ग के सेवकों को पदावनत कर वर्ष 2002 की वरिष्ठता के आधार पर पदोन्नतियां करने के निर्देश दिए थे। उक्त आदेश के विरुद्ध मप्र शासन सर्वोच्च न्यायालय में चला गया था। दिनांक 12.05.2016 को मान सर्वोच्च न्यायालय द्वारा प्रकरण में यथास्थिति के आदेश दिए थे।

अनेक राज्यों के ऐसे ही प्रकरणों में केंद्र शासन द्वारा एम नागराज प्रकरण में मान सर्वोच्च न्यायालय के वर्ष 2006 के निर्णय पर ही प्रश्न खड़ा कर दिया गया। दिनांक 29.09.2018 को 5 जजों की संविधान पीठ ने एम नागराज प्रकरण में पुनर्विचार की संभावना से मना कर दिया। मान न्यायालय ने यह भी कहा कि अनु. जाति/ जनजाति के पिछड़ेपन को साबित करने के लिए आंकड़े जुटाने की आवश्यकता नहीं होगी किन्तु क्रीमीलेयर निर्धारित करना होगी।

अब उक्त निर्णय के आधार पर मान सर्वोच्च न्यायालय की मान न्यायधीश कुरियन जोजेफ व मान जस्टिस अब्दुल नजीर की पीठ हर राज्य के प्रकरण प्र अलग अलग सुनवाई कर फैसला देगी।

No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com