-->

Breaking News

न्याय की रक्षा माई के लालों का कर्तव्य, इस संघर्ष को हम अंजाम तक ले जाएंगें : हीरालाल त्रिवेदी



भोपाल : न्याय की रक्षा माई के लालों का कर्तव्य है और इस संघर्ष को हम अंजाम तक ले जाएंगें। हमारा संघर्ष संविधान सम्मत और वैचारिक है। हम रहें  या न रहें, मगर हमारी आने वाली पीढ़ी व मौजूद युवा शक्ति को हम इतना मजबूत और न्यायप्रिय बनाना चाहते हैं । जिससे हर क्षेत्र में प्राकृतिक न्याय का सिद्धांत स्थापित हो। लोगों के जीवन को न्यायप्रिय, समृद्ध, खुशहाल बना सके। हम एक समरसता मूलक एकजुट समाज चाहते है और अपने महान  संविधान की मंशा अनुरुप उसकी रक्षा करना चाहते है। हम म.प्र. ही नहीं, देश में भी उसूलो की राजनीति को जिंदा रखना चाहते है l  हम माई के लाल है और उन अहम, अहंकारी, स्वार्थवत सत्ताओं को यह समझाना चाहते है कि एट्रोसिटी एक्ट और पदोन्नति मे आरक्षण बंद हो l  आरक्षण बगैर किसी जाति, क्षेत्र, भाषा, धर्म के बिना आर्थिक आधार पर, हर समाज, वर्ग के कल्याण के लिए हो। सपाक्स सर्वकल्याण, समरसता का पक्षधर है, जिसके लिए हमारा संघर्ष जारी है। सपाक्स ऐसी सत्ता, सरकार चाहती है जिसमें न्याय और कानून के राज सहित सभी का कल्याण, समृद्धि के साथ लोगों का अपना मान सम्मान, स्वाभिमान जिंदा रह सके और यह तभी संभव है, जब म.प्र. मे सपाक्स की सरकार बने। उक्त बात सपाक्स के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री हीरालाल त्रिवेदी ने मीडिया से चर्चा के दौरान कही। उन्होंने कहा कि जितने भी लोकतांत्रिक तरीके से आग्रह के रास्ते हो सकते थे, सपाक्स ने संघर्षपूर्ण ढंग से तय किए। मगर हताशा-निराशा ही हाथ लगी। मजबूर सपाक्स ने न्याय के लिए लोकतांत्रिक रास्ते को ही चुना। क्योंकि लोकतंत्र में यही एक रास्ता बचता है जब विधायिका, कार्यपालिका न सुने और माननीय सर्वोच्च न्यायालय सहित जनता की आवाज सुनने से भी इंकार कर दे। ऐसे में  स्वयं को सशक्त और  सक्षम बनाने के अलावा दूसरा रास्ता नहीं बचता।

सपाक्स के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री हीरालाल त्रिवेदी ने कहा कि सपाक्स का संघर्ष किसी जाति, वर्ग विशेष के खिलाफ नहीं, बल्कि सर्वकल्याण के लिए है। सपाक्स का संघर्ष उन सत्ताओं के खिलाफ है जो समाज को बांटना चाहती हैं । हम न्याय और सत्य  के मार्ग पर हैं, हम सर्वकल्याण और राष्ट्र सेवा के मार्ग पर हैं,  इसलिए हम माई के लालों को सफलता मिलना सुनिश्चित है।

No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com