-->

MP ONLINE NEWS

Breaking News

दो राज्य के नेता नहीं करा सके रेल सुविधाओं का विस्तार . पत्राचार तक सिमटा प्रयास हो सकता है आन्दोलन

दो राज्य के नेता नहीं करा सके रेल सुविधाओं का विस्तार .

पत्राचार तक सिमटा प्रयास  हो सकता है आन्दोलन

अनूपपुर /प्रदीप मिश्रा  -8770089979

म प्र - छत्तीसगढ़ की सीमा पर स्थित अनूपपुर जिला रेल सुविधाओं के विस्तार से अछूता है। अंबिकापुर -- नागपुर ट्रेन सुविधा की वर्षों से मांग होती रही है । कई सांसदों‌, विधायकों के साथ बहुत से छोटे बडे जनप्रतिनिधियों , नेताओं ,समाजसेवी संगठनों ने रेल विभाग से पत्राचार किया ,लेकिन परिणाम वही ढाक का तीन पात ही रहा।प्राप्त जानकारी के अनुसार अब नये घटनाक्रम में छत्तीसगढ़ शासन के वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री टी.एस .सिंह देव ने रेल मंत्री पीयूष गोयल को रेल विस्तार एवं सुविधा के संबंध में पत्र लिखा है। इसमें गोंदिया से अम्बिकापुर दो दिवसीय सप्ताहिक ट्रेन, अम्बिकापुर से नई दिल्ली वाया भोपाल ट्रेन , अंबिकापुर से रायपुर मेमू, अंबिकापुर से दुर्ग तक चलने वाली ट्रेन का नागपुर तक विस्तार, बरौनी गोंदिया 15231 /गोंदिया बरौनी 15232 का विस्तार नागपुर तक ,अंबिकापुर जबलपुर ट्रेन का हबीबगंज तक विस्तार तथा जबलपुर संतरागाछी हमसफर का अनूपपुर जंक्शन में ठहराव किये जाने की मांग की गयी है। दर असल समय-समय पर रेल मंत्री, रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष को ट्रेन सुविधा एवं विस्तार के संबंध में ऐसे पत्र दशकों से लिखे व भेजे जा रहे हैं। लेकिन इसमें जरा भी गति आई हो ऐसा लगा नहीं । इस क्षेत्र से बडी संख्या में लोग इलाज कराने प्रतिदिन नागपुर जाते हैं। नागपुर मे सस्ता व अच्छा इलाज होने के कारण वह बडा मेडिकल हब बन कर उभरा है। अंबिकापुर, अनूपपुर, रीवा , मंडला ,शहडोल, उमरिया से मरीज नागपुर इलाज के लिये जाते हैं। यह कोई पर्यटन या छुट्टी बिताने ,तफरी के लिये की जाने वाली यात्रा नहीं है। कोई मरीज ,उसके परिजन बीमारी की दशा मे नागपुर जाने के लिये या तो पहले बिलासपुर जाकर , वहां घंटो इंतजार करने के बाद दूसरी ट्रेन पकड कर नागपुर जाते हैं या बेहद मजबूरी मे सडक मार्ग से लंबी यात्रा करते हैं।कोई सीधी ट्रेन सुविधा नागपुर के लिये नहीं है। इसके लिये लोगों द्वारा लंबे समय से मांग की जाती रही है। शहडोल के पूर्व सांसद स्व दलपत सिंह परस्ते, पूर्व सांसद स्व राजेश नन्दिनी सिंह ने इसके लिये पत्राचार किया , वे दोनो अब दुनिया मे नहीं रहे। वर्तमान सांसद ग्यान सिंह के साथ बहुत से नेताओं ने मांग की। अनूपपुर - शहडोल - अबिकापुर प्रवास पर आने वाले जी एम, डी आर एम से हर बार यह मांग उठती रही है। समाचार पत्रों ने इतनी खबरे छापी कि किताब बन जाए। अब सवाल यह है कि या तो हमारे सांसद ,पूर्व सांसद ,विधायक, जनप्रतिनिधि इतने कमजोर / असहाय हैं / थे कि दिल्ली में इन्हे कोई महत्व देता नहीं । या फिर यह कि इन सबने इस मामले में कोई गंभीर प्रयास किया ही नहीं, सिवाय पत्र लिख कर पत्रकारों तक वायरल करने के अलावा। या यह भी कि रेल मंत्रालय आम जनता की इस नितांत जरुरी आवश्यकता की गंभीरता को समझने की कोशिश ही नहीं कर रहा। अब आम जनता को भी लगने लगा है कि पहले कांग्रेस व अब भाजपा के नेता इस संवेदनशील मामले मे सिर्फ राजनीति ही करते रहे हैं। जनता व मीडिया को बहलाने का इससे बेहतर मार्ग उन्हे नहीं सूझा। जबकि आवश्यकता इस बात की है कि केन्द्रीय नेता व विभाग के आला अधिकारी इस मामले में सही तरीके से पहल करें। सांसद , प्रदेश के अन्य प्रभावी केन्द्रीय मंत्री या संगठन के माध्यम से सही पहल करें तो एक ट्रेन का विस्तार कोई बडा कार्य नहीं है। यह तब ऒर भी महत्वपूर्ण हो जाता है जब कोयला से सबसे ज्यादा रेवेन्यू इस क्षेत्र से सरकार को मिल रहा हो तो जनता की सुविधाओं का ध्यान भी उन्हे रखना होगा। अब सवाल है कि क्या रेल सुविधाओं के लिये आम जनता को ट्रैक पर आना होगा। क्या मरीजों को सुविधा दिलाने के लिये आन्दोलन करना होगा ? चुनाव के कगार पर खडी किसी सरकार के लिये यह बेहतर संकेत नहीं है। अच्छा हो कि जनता की इस मांग पर रेल मंत्रालय शीघ्र कदम उठाए।

No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com