-->

MP ONLINE NEWS

Breaking News

सपाक्स पार्टी या व्यक्ति विशेष की राजनैतिक महत्वाकांक्षाओं के लिए सपाक्स समाज के आंदोलन से समझौता नहीं किया जाएगा : भानु तोमर , प्रदेश सचिव ( सपाक्स समाज )



भोपाल : सपाक्स पार्टी के प्रदेश सचिव भानु तोमर एवं प्रदेश सह सचिव प्रसंग परिहार ने दिया पार्टी से इस्तीफा। चुनाव परिणाम से पूर्व इस्तीफा देने की बात पर उन्होंने ने बताया कि विधानसभा चुनाव के समय से ही पार्टी का शीर्ष नेतृत्व मूल आंदोलनकारियों को दरकिनार कर चाटुकारों को महत्व देती रही है। पार्टी का गठन आंदोलन मजबूत करने के लिए किया गया था परंतु पार्टी शीर्ष नेतृत्व ने सिर्फ आंदोलन खत्म करने का काम किया ।

साथ ही भानु तोमर ने बताया कि सपाक्स नाम से पार्टी होने की वजह से एवं सपाक्स के नाम पर चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशी हतोत्साहित ना हो इसलिए हमने कभी विरोध नहीं किया परंतु अब पानी सर से ऊपर जा चुका है सपाक्स पार्टी या व्यक्ति विशेष की राजनीतिक महत्वाकांक्षा के लिए सपाक्स समाज के आंदोलन से समझौता नहीं किया जा सकता है।

साथ ही बताया कि विधानसभा परिणाम की जिम्मेदारी सिर्फ और सिर्फ पार्टी शीर्ष नेतृत्व बनती है क्योंकि विधानसभा चुनाव के दौरान पार्टी ने हमेशा सपाक्स की मूल जनक सपाक्स अधिकारी कर्मचारी संस्था  एवं सपाक्स समाज को  दरकिनार कर  हमेशा तानाशाही पूर्ण रवैया अपनाते हुए  अपनी मर्जी चलाई  और अंत में अपनी गलती ना मानते हुए हार का ठीकरा सापक्स संस्था एवं समाज पर फोड़ दिया ।
मंथन एवं समन्वय के बाद भी लोकसभा चुनाव के समय भी वही गलतियां बार-बार दोहराई गई,  बार बार की गई गलतियां सोची समझी साजिश कहलाती है । जो सपाक्स पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हीरालाल त्रिवेदी ने सपाक्स के आन्दोलन को  कमजोर कर साबित कर दिया है।

सपाक्स पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हीरालाल त्रिवेदी की गतिविधियां संदिग्ध रही है ऐसा प्रतीत होता रहा है कि वह किसी अन्य संगठन या राजनीतिक दल के हाथ की कठपुतली बन गए हैं।
जैसे
1. खुद चुनाव ना लड़ना
2. पारदर्शिता का ना होना
3. पार्टी शीर्ष नेतृत्व की कथनी एवं करनी में जमीन आसमान का अंतर होना
4.जिलेबार आंदोलनकारियों को हतोत्साहित कर सपाक्स समाज को खत्म करने का षड्यंत्र करना
5. सपाक्स की मूल जनक सपाक्स अधिकारी कर्मचारी संस्था से किसी भी प्रकार का समन्वय ना करना।



No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com