-->

MP ONLINE NEWS

Breaking News

छत्तीसगढ़ के अधिकारियों ने जाना जनजातीय विकास और शोध में आईजीएनटीयू का योगदान छत्तीसगढ़ एडमिनिस्ट्रेशन के दल ने किया विश्वविद्यालय का स्टडी टूर

छत्तीसगढ़ के अधिकारियों ने जाना जनजातीय विकास और शोध में आईजीएनटीयू का योगदान

छत्तीसगढ़ एडमिनिस्ट्रेशन के दल ने किया विश्वविद्यालय का स्टडी टूर


जनजातीय विकास में विश्वविद्यालय के साथ स्वयं के योगदान का संकल्प व्यक्त

अनूपपुर / अमरकटंक /प्रदीप मिश्रा - 8770089979

छत्तीसगढ़ एकेडमी ऑफ एडमिनिस्ट्रेशन में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे 22 अधिकारियों के एक दल ने 11 और 12 मई को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय का स्टडी टूर किया। इसके अंतर्गत इन अधिकारियों ने विश्वविद्यालय में जनजातीय विकास के लिए उठाए जा रहे विभिन्न कदमों और इनकी संस्कृति के संरक्षण पर किए जा रहे शोध को जाना। दल ने प्रमुख रूप से विश्वविद्यालय में स्थित कृषि विज्ञान केंद्र, लाइवलीहुड बिजनेस इनक्यूबेशन सेंटर, हर्बल गार्डन, लुप्त प्रायः भाषा केंद्र और ट्राइबल म्यूजियम का दौरा कर इनके बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त की। अधिकारियों के समक्ष जनजातियों की चुनौतियों और संभावनाओं को प्रस्तुत करते हुए प्रो. प्रसन्ना कुमार सामल ने बताया कि मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ की जनजातियां प्रमुख रूप से अपनी संस्कृति और रीतियों को संरक्षित रखने, प्राकृतिक संसाधनों पर अधिकार, मानव विकास सूचकांक में अग्रिम स्थान बनाने, जनजातीय क्षेत्रों में आधारभूत संरचना उपलब्ध कराने और स्वास्थ्य जैसी प्रमुख चुनौतियों से जूझ रही हैं। इनमें उच्च शिक्षा का प्रसार न हो पाना और इनकी भाषा में पाठ्यक्रम का न होना भी इनके विकास में बाधक बन रहा है। उन्होंने इनकी संस्कृति का दस्तावेजीकरण करने और इनके पारंपारिक ज्ञान को संग्रहित कर उसका वैज्ञानिक आधार पता करने पर विशेष बल दिया। प्रो. दिलीप सिंह का कहना था कि जनजातियों की भाषा उनके स्वभाव के अनुरूप सरल होती है। उन्होंने प्रत्येक वर्ग को निश्चित नाम दिए हुए हैं जो प्रकृति के विषय में उनके असीम ज्ञान को प्रदर्शित करता है। डॉ. पूनम शर्मा ने जनजातीय महिलाओं में फैल रहे संक्रमण के बारे में जानकारी दी। डॉ. रविंद्र शुक्ला ने हर्बल गार्डन और विभिन्न शोध परियोजनाओं के माध्यम से अमरकटंक क्षेत्र की आयुर्वेदिक औषधियों के वैज्ञानिक आधार का पता लगाने के लिए विश्वविद्यालय द्वारा किए जा रहे प्रयासों के बारे में जानकारी प्रदान की। अधिकारियों ने विश्वविद्यालय के प्रयासों की सराहना करते हुए इसमें हर संभव मदद का संकल्प व्यक्त किया। इस अवसर पर कुलपति प्रो. टी.वी. कटटीमनी ने सभी अधिकारियों से जनजातियों के ज्ञान को संरक्षित करने में विश्वविद्यालय के प्रयासों का साथ देने का आह्वान किया। कार्यक्रम में कुलसचिव पी. सिलुवेनाथन, प्रो. किशोर गायकवाड़ और केवीके के प्रमुख डॉ. एस.के. पांडे भी उपस्थित थे।

 

No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com