-->

MP ONLINE NEWS

Breaking News

सतना सांसद जी आपकी धमकिया बर्दास्त के काबिल नहीं : विधायक नारायण त्रिपाठी



सतना :  विंध्य की धरा के धड़कन मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी ने सतना सांसद द्वारा नागौद में दिए सियासी बयानबाजी को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए बयानबीर के बयान की घोर निंदा की है। नारायण त्रिपाठी ने कहा कि हुई अप्रत्यासित जीत से सांसद सतना गणेश सिंह अपना मानसिक संतुलन खो बैठे है और वे यह भूल चुके है कि मिली जीत उनकी लोकप्रियता नहीं है अपितु यह जीत देश के यशश्वी प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी जी और कुशल रणनीतिकार अमित शाह जी की है और यह जीत केवल सतना में नहीं हुई बल्कि पुरे देश में हुई है इसके लिए मैं देश के सम्माननीय प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी जी और अमित शाह जी का आभार प्रकट करता हु साथ ही सतना जिला सहित पुरे देश की जनता का आभार प्रकट करता हु जिन्होंने राष्ट्रहित को सवोपरि मानते हुए भारतीय जनतापार्टी पर अपना विश्वास जताया।
              
नारायण त्रिपाठी ने कहा कि जीत के जश्न में डूबे सांसद जी ने नागौद में जिस तरह का उद्बोधन दिया वह अत्यंत निंदनीय है जिसकी जितनी भर्त्सना की जाय कम होगी साथ ही वे जिस तरह से अपने प्यादों से बयान बाजी करा रहे है वह बर्दास्त करने योग्य नहीं है।उन्होंने कहा कि अहंकार में डूबे सांसद जी यह जान ले कि अगर विधायको ने उनका विरोध किया होता तो वे आज इस तरह की बयान बाजी के लिए बचे ही न होते,उन्होंने कहा कि मेरे गृह ग्राम में चार पोलिंग आती है और चारो में सांसद जी ने जीत दर्ज की तो कैसे और गाते फिर रहे है कि विधायको ने मेरा विरोध किया। आरोप लगाने के पहले सांसद जी पहले अपने गिरेवान में झांकिए पूर्व में हुए विधानसभा चुनाव में रामपुर बाघेलान जहाँ आपका गृह ग्राम है खमरिया वहा आपने क्या भाजपा प्रत्यासी को जीत दिलाई आपके गृह ग्राम की पोलिंग भाजपा प्रत्यासी विक्रम सिंह विक्की हारे है तो आपके खिलाफ कार्यवाही हुई क्या? मतलब आप करो तो रासलीला दूसरे करे तो अपराध यह नहीं चलेगा। पूर्व में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान आपने सात में से छः विधानसभा में मौजूद भाजपा प्रत्यासियो का पूरी कूबत के साथ विरोध किया तब आपके लिए पार्टी और उसके सिद्धांत कहाँ थे आपकी पार्टी के प्रति निष्ठां उस समय कहा सो गयी थी जो आज जाग गयी सांसद जी अपने आप पर बीती तो बौखला गए यह ठीक नहीं धैर्य रखिये।
            
मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी ने कहा कि इनकी सभा के दौरान मेरे छोटे भाई को अटैक आया और उनकी असामयिक मृत्यु हो गयी इस दौरान सांसद जी ने एक बार भी फोन तक में मेरे से बातचीत नहीं की और ना ही मिलने आये। एक तारीख को जिस दिन मेरे भाई की तेरहवी का कार्यक्रम था उस दिन आये और बोले कि दो चार गाड़िया ले लीजिये और क्षेत्र का दौड़ा कर लीजिये, दो तारीख तक मैं अपने घर में था तीन और चार तारीख को मैं इनके समर्थन में प्रचार करने निकला लेकिन इनके कर्मो की बदौलत मुझे वहा भी विरोध झेलना पड़ा। नारायण त्रिपाठी ने कहा कि 2014 में मैं अपनी बलि देकर चुनाव जिताया अगर मैं इनके लिए अपनी राजनैतिक बलि न देता तो कम से कम ये एक लाख वोट से चुनाव अजय सिंह राहुल से हारते और ये भविष्य में राजनीति करने लायक न बचते। और अगर ये न बचते तो  इनके घर खानदान में इनकी बहु जिला पंचायत अध्यक्ष न बनती। उन्होंने कहा कि 2009 और 2014 में आप कितने लोकप्रिय थे आपके जीत के आंकड़े यह बयान करते है उसमे कुछ टीका टिपण्णी करने की आवश्यकता नहीं है उन्होंने कहा कि 2014 में तीन दिन के अंदर राजनैतिक फिजा बदलकर आपको चुनाव जितवाया इसलिए अपनी हद में रहिये। नारायण त्रिपाठी ने कहा की मैहर की जनता जनार्दन के आशीर्वाद से उनकी सेवा भाव से राजनीति करता हु मैं अपना कोई धंधा व्यपार करने के लिए राजनीति नहीं करता और अगर आपसे राजनीति का हिसाब माँगा जाएगा तो बोलती बंद हो जायेगी 2 एकड़ के कास्तकार आज इतने बड़े रईसजादे बने बैठे हो तमाम सीमेंट उद्दोगों में धंधा व्यपार चला कर बैठे हो और दुसरो को धमका रहे हो इसलिए सांसद जी होश में रहिये अगर मैं न होता तो 2014 में ही आपकी गिल्लियां उड़ गयी होती और वह दिन आप भूल गए जब 2014 में मिली जीत के बाद आप और आपका छोटा भाई तमाम मंचो से यह कहना नहीं भूलते थे कि यह जीत हमें नारायण भैया के चरणों की कृपा से मिली है लेकिन आज ऐसा क्या हो गया कि आपकी भाषा बदल गयी। श्री त्रिपाठी ने कहा कि 2014 में माननीय शिवराज सिंह चौहान, अरविन्द मेनन, आशुतोष तिवारी जी की जिद के कारण मैं पार्टी में आया था तब आप महज लगभग 8000 वोट से जीते थे और इसके पहले लगभग 3000 वोट से चुनाव जीते थे इसलिए अपनी लोकप्रियता पर ज्यादा उछाल न मारिये और अपनी भाषा में लगाम लगाइये।
              
मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी ने कहा कि आज आप जीत के बाद लोगो पर जातिवाद का आरोप लगाते है जबकि इस चुनाव में हर वर्ग जाती सम्प्रदाय के लोगो ने मोदी जी नाम पर वोट दिया वैसे यह सब बोलना आपकी फितरत में है आप तो खुले मंचो से कई बार बोल चुके हो कि मैं सांसद बाद में हु पहले मैं पटेल हु
तब आपके विरुद्ध कार्यवाही नहीं हुई और रही बात मेरी तो सांसद जी मैं डंके की चोट पर खुले मंचो से हमेशा बोलता हु कि राजनीति में मेरी कोई जाती नहीं मैंने कभी जातपात की राजनीती की ही नहीं मुझे किसने वोट दिया किसने वोट नहीं दिया मेरे पास जो भी आता है मैं खुले दिल से उसकी हर संभव मदद करता हु। मैं उससे यह कभी नहीं पूछता की तुम किस जाती से हो या तुमने मुझे वोट दिया है या नहीं। इसलिए पहले अपने दामन में झांकिए उसे पाकसाफ बनाइये फिर लोगो पर उंगलिया उठाइये साथ ही उन्होंने दी जा रही धमकियों को लेकर सांसद सतना को चेताया कि ऐसी धमकिया न दीजिये कि आपके सामने आ जाएगा तो आप बेइज्जत कर डोगे अगर आप किसी को बेइज्जत करोगे तो आप भी बेइज्जत हो जाओगे।इसलिए होश में आइये यह जीत आपकी नहीं है यह जीत भारतीय जनता पार्टी की जीत है और यह पार्टी आपकी उपजी हुई पार्टी नहीं है आप इस पार्टी के ठेकेदार नहीं हो। उन्होंने कहा कि आपकी बयानबाजी को लेकर पार्टी के शीर्ष नेतृत्व से बात की जायेगी क्योकि यह बयानबाजी बर्दास्त के काबिल नहीं है।

नारायण त्रिपाठी ने कहा कि इस तरह की बयानबाजी आपकी फितरत में है यह बात जिले का हर राजनेता जानता है आप कभी प्रदेश अध्यक्ष बनने लगते हो, कभी मुख्यमंत्री बनने लगते हो,कभी केंद्र में मिनिस्टर बनने लगते हो,कभी बड़े रणनीतिकार बनने लगते हो लेकिन सांसद जी एक बात याद रखो जो वोट आपको मिले है न वह आपकी लोकप्रियता के बदौलत नहीं मिले ये वोट माननीय मोदी जी और अमित शाह जी के त्याग और तपस्या के बदौलत मिले है और आपकी जगह अगर सतना से कोई अन्य प्रत्यासी होता तो कम से कम 5 लाख वोट से चुनाव जीतता। इसलिए धमकाने का कुंठित प्रयास हरगिज मत करिये यह बर्दास्त नहीं किया जाएगा।

No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com