-->

MP ONLINE NEWS

Breaking News

अपने अधिकारों को जाने और आगे आकर उनका उपयोग करें - पुलिस महानिरीक्षक एस॰पी॰ सिंह महिला सशक्तिकरण कार्यशाला में महिलाओं में नेतृत्व क्षमता के विकास समेत विधिक प्रावधानो की दी गयी जानकारी

अपने अधिकारों को जाने और आगे आकर उनका उपयोग करें - पुलिस महानिरीक्षक एस॰पी॰ सिंह

महिला सशक्तिकरण कार्यशाला में महिलाओं में नेतृत्व क्षमता के विकास समेत विधिक प्रावधानो की दी गयी जानकारी

अनूपपुर:/ प्रदीप मिश्रा - 8770089979

महिला अधिकारियों एवं कर्मचारियों में नेतृत्व क्षमता वृद्धि, जेंडर समानता, पुलिस जीवन में कार्य संतुलन विकसित किए जाने, कार्यस्थल में यौन शोषण एवं महिला सम्बंधी अपराधों का विधिक ज्ञान प्रदान करने के सम्बंध में पुलिस एवं महिला बाल विकास विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित विशेष कार्यशाला में मुख्य अतिथि पुलिस महानिरीक्षक शहडोल जोन एस॰पी॰सिंह ने कहा अपने अधिकारों को प्राप्त करने के लिए आवश्यक है कि महिलाएँ आगें आएँ अपने अधिकारों को पहचाने एवं खुलकर अपनी बातें रखें। पारिवारिक दायित्वों के साथ साथ सामाजिक एवं प्रशासनिक दायित्वों के निर्वहन में महिलाओं की सहभागिता में सतत रूप से वृद्धि हुई है जो कि महिला सशक्तिकरण की राह में सकारात्मक कदम हैं। महिलाओं की आर्थिक एवं राजनैतिक सहभागिता सुनिश्चित करना महिला सशक्तिकरण का मूल है। आपने शहडोल जोन की उपस्थित महिला पुलिस अधिकारियों, महिला एवं बाल विकास विभाग समेत स्वतंत्र रूप से कार्यरत महिलाओं को सम्बोधित करते हुए कहा आप सब महिला शक्ति का उदाहरण हैं। आज यह सभी के समक्ष स्पष्ट है कि महिलाएँ सौंपें गए सभी दायित्वों को दक्षता के साथ निर्वहन करने में सक्षम हैं। समय आ गया है कि महिला सशक्तिकरण का यह प्रकाश हम सभी महिलाओं तक पहुँचाएँ एवं समाज के उत्थान में जीवन की गाड़ी के दूसरे पहिए की बड़ी और सशक्त भूमिका सुनिश्चित करें। तकनीकि विकास के साथ बढ़ी हुई चुनौतियों का सामना करने के लिए समयानुकूल जनहितैषी कार्यप्रणाली के साथ प्रावधानो से अद्यतन रहना जरूरी - पुलिस उप महानिरीक्षक पी॰एस॰उईके पुलिस उपमहानिरीक्षक शहडोल रेंज पी॰एस॰ उईके ने कहा नई तकनीकों एवं संचार साधनो के विकास से महिलाओ से सम्बंधित नए कस्मि के अपराधों का प्रादुर्भाव हुआ है। उनसे निजात पाने के लिए पुलिस प्रशासन द्वारा सतत रूप से प्रयास किए जा रहे हैं। इन प्रयासों में स्कूलों कालेजों में जाकर छात्राओं एवं युवतियों में जागरूकता लाना आधुनिक तकनीकी का अपराध नियंत्रण में प्रयोग सीसीटीएनएस, डायल 100, साइबर सेल आदि प्रमुख हैं। आपने कहा नए तरीकों से निपटने के लिए समयानुकूल रहना एवं अद्यतन रहना आवश्यक है। इसके लिए समय समय पर पुलिस विभाग में दक्षता उन्नयन कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं। पुलिस अधीक्षक किरणलता केरकेट्टा ने सभी महिला अधिकारियों को प्रेरित करते हुए कहा अपने अधिकारो की प्राप्ति के लिए सभी महिलाओं को आगे आना होगा। अपनी कार्यकुशलता से सभी के समक्ष अपनी योग्यता को प्रदर्शित करना होगा। इसके लिए आवश्यक है सभी महिला अधिकारी अपने मन से संशयों को दूर कर अपनी शक्ति को पहचाने एवं निर्भीक होकर दायित्वों का निर्वहन करें। कार्यशाला में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अलीराजपुर सीमा अलावा द्वारा जीवन में कार्य संतुलन एवं चुनौतियों विषय पर जानकारी देते हुए समस्याओं एवं समाधानों पर विस्तृत चर्चा की गयी। आपने कहा महिलाओं की विभिन्न कार्यक्षेत्रों में बढ़ती सहभागिता के साथ उन पर बोझ बढ़ रहा है पारिवारिक जिम्मेदारियों के साथ अपने कार्य की जिम्मेदारियों का निर्वहन एक चुनौती है समय है परिवार में ऐसा माहौल बनाने का जहाँ सभी सदस्य घरेलू जिम्मेदारियों में अपनी सहभागिता निभाएँ। इस दौरान कार्यस्थल पर महिलाओं का यौन उत्पीड़न (रोकथाम, निषेध और निवारण) अधिनियम 2013 के सम्बंध में जानकारी दी गयी। यह अधिनियम यौन उत्पीड़न के खिलाफ और यौन उत्पीड़न की शिकायतों की रोकथाम और निवारण के लिए और इससे जुड़े मामलों या आकस्मिक उपचार के लिए बनाया गया है। अधिनियम का लक्ष्य है कि महिलाओं को कार्यक्षेत्र स्थलों पर यौन उत्पीड़न से बचाया जाए, चाहे वह शासकीय हो या निजी। इससे लैंगिक समानता, जीवन और स्वतंत्रता के अधिकार और हर जगह काम करने की स्थिति में समानता का एहसास होगा। कार्यस्थल पर सुरक्षा की भावना काम में महिलाओं की भागीदारी में सुधार करेगी, जिसके परिणामस्वरूप उनका आर्थिक सशक्तीकरण और समावेशी विकास होगा। व्याख्याता कुसुम त्रिपाठी द्वारा जेंडर समानता एवं चुनौतीपूर्ण संघर्ष विषय पर जानकारी दी गयी। आपने कार्यक्षेत्र में महिलाओं की बढ़ी सहभागिता एवं कार्य के दौरान आने वाली मानसिक परेशानियों से निपटने के तरीकों के विषय में चर्चा की। संकल्प ग्रूप कालेज की व्याख्याता क्षिप्रा तिवारी ने  महिला अधिकारियों में नेतृत्व क्षमता विकसित करने एवं आगे आकर जिम्मेदारियों के निर्वहन हेतु उपस्थित सदस्यों को प्रेरित किया। कार्यशाला में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक वैष्णव शर्मा, सहायक संचालक महिला सशक्तिकरण मंजुशा शर्मा, शहडोल जोन की पुलिस विभाग की महिला अधिकारी एवं कर्मचारी, महिला बाल विकास विभाग की महिला अधिकारी कर्मचारी, विधिक अधिकारी, अधिवक्ता, प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के प्रतिनिधि, समाजसेवी समूहों की महिला सदस्य उपस्थित थीं।

No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com