-->

Breaking News

बिगडती कानून व्यवस्था को लेकर कोतमा विधायक की चिंता वाजिब --- मनोज द्विवेदी. मुख्यमंत्री को कांग्रेस विधायक द्वारा लिखे पत्र से भाजपा फ्रंटफुट पर

बिगडती कानून व्यवस्था को लेकर कोतमा विधायक की चिंता वाजिब --- मनोज द्विवेदी


मुख्यमंत्री को कांग्रेस विधायक द्वारा लिखे पत्र से भाजपा फ्रंटफुट पर 




अनूपपुर / मध्यप्रदेश मे बिगडती कानून व्यवस्था को लेकर भारतीय जनता पार्टी आरोप लगाती रही है। जिसका खण्डन प्रदेश के मुख्यमंत्री ,मंत्री गण करते रहे हैं। लेकिन भारतीय जनता पार्टी द्वारा लगाए गये आरोपों की पुष्टि अब कांग्रेस के ही विधायक द्वारा किये जाने से भाजपा फ्रंटफुट पर है। नमो एप संभागीय प्रभारी तथा भाजपा नेता मनोज द्विवेदी ने कहा है कि कोतमा विधायक सुनील सराफ द्वारा यदि ऐसा कोई पत्र मुख्यमंत्री को लिखा गया है तो यह अत्यंत साहसिक ,सराहनीय तथा सच्चाई को बडे मन से स्वीकार करने जैसा है।  कांग्रेस विधायक ने बिगडती कानून व्यवस्था पर चिन्ता जाहिर की है तो उनके आरोपों की प्रदेश सरकार को निष्पक्ष जांच करवा कर कानून व्यवस्था स्थापित करने के लिये कदम उठाना चाहिये। श्री द्विवेदी ने  कहा है कि भारतीय जनता पार्टी शुरु से ही प्रदेश मे बढते अपराध, अपराधियों के बढते हॊसलों पर सवाल उठाती रही है। तब इसे विपक्ष का महज आरोप कह कर सत्तारूढ़ दल खारिज करता रहा है। लेकिन अब जबकि उनके ही दल के विधायक ने बढते अपराध तथा स्वयं की खराब होती छवि पर मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है तो यह भाजपा के आरोपों की पुष्टि ही करता है। सवाल यह भी उठ रहा है कि क्या कांग्रेस विधायक की प्रभारी मंत्री ,जिले के अधिकारी सुन नहीं रहे या किसी अन्य कारणों से विधायक को पत्राचार करना पडा ? इसके बावजूद कोतमा विधायक ने सच को स्वीकार करने का साहस दिखलाया है,इसकी सराहना होनी चाहिए ।
  दर असल सोशल मीडिया तथा समाचार पत्रों मे  कोतमा विधायक सुनील सराफ द्वारा प्रदेश के मुख्यमंत्री को 16 जुलाई को लिखा पत्र क्रमांक 260/ कोतमा एवं इससे जुडी खबरें वायरल / प्रकाशित हुई  है। विधायक स्वत: अपने लिखे पत्रों ,कार्यक्रमों को सोशल मीडिया में शेयर करते रहे हैं। यह स्पष्ट नहीं कि यह पत्र उन्होंने वायरल किया या उनके किसी समर्थक ने। वायरल पत्र की पुष्टि या खण्डन स्वत: विधायक को करना चाहिए था ,जो उन्होंने आज दिनांक तक नहीं किया । तो इस पत्र को लोगों ने सही मान लिया तथा अपने अपने तरीके से चर्चा भी खूब कर रहे हैं। 

विधायक द्वारा मुख्यमंत्री को संबोधित पत्र मे कहा गया है कि मेरे द्वारा पूर्व मे भी आपके संग्यान मे यह बात लाई गयी थी कि मेरे विधानसभा क्षेत्र मे कानून व्यवस्था की स्थिति अत्यंत दयनीय है। क्षेत्र मे जुआ, शराब,कबाड,चोरी, कोयला चोरी, मादक पदार्थों की बिक्री चरम पर है। प्रभारी मंत्री प्रदीप जायसवाल के अनूपपुर प्रवास पर मेरे द्वारा पुलिस प्रशासन के समक्ष अनैतिक कार्यों पर अंकुश लगाने एवं कानून व्यवस्था को सुदृढ़ करने पर आवश्यक चर्चा हुई थी। लेकिन  एक दिन मे बीस घरों के ताले टूट जाते हैं। अपराधियों मे पुलिस का जरा भी भय नहीं है। शान्ति प्रिय जनता मे आक्रोश है। 
   विधायक ने आगे लिखा है कि मेरे कतिपय प्रभावशाली व्यक्तियों एवं पुलिस द्वारा जानबूझ कर मेरी छवि को खराब करने के लिये मेरे क्षेत्र में अवैध कार्यों मे संलिप्त व्यक्तियों को संरक्षण दिया जा रहा है। इसकी शिकायत पूर्व मे भी मेरे द्वारा की गयी। पुलिस हत्या जैसे गंभीर मामले का खुलासा नहीं किया गया है। विधायक द्वारा पत्र मे विधानसभा क्षेत्र मे कानून व्यवस्था सुदृढ़ करने,आपराधिक गतिविधियों पर अंकुश लगाने तथा प्रभावशाली व्यक्तियों के अनैतिक कार्यों को संरक्षण देने पर रोक लगाने की मांग की है ताकि कांग्रेस की छवि उज्ज्वल हो सके।
    पत्र मे विधायक की चिंता बिगडती कानून व्यवस्था ,बढते अपराधों को लेकर है। लेकिन उन्होने अपने उन प्रभावशाली लोगों का नाम उजागर नहीं किया है जो अवैध कार्यों मे लिप्त हैं । पत्र लिखे जाने से उनका पुलिस पर अविश्वास तथा स्वयं की छवि खराब होने का भय उजागर हो रहा है। कांग्रेस सत्ता मे है। अपनी ही सरकार को  बिगडती कानून व्यवस्था ,बढते अपराधों पर विधायक द्वारा पत्र लिखा जाना उनकी वाजिब चिंता हो सकती है। लेकिन इससे भाजपा के उन आरोपों की पुष्टि भी होती है जो वे अलग अलग अवसरों पर लगाते रहे हैं। दूसरी ओर कोतमा कांग्रेस के एक नेता मंगलदीन साहू के विरुद्ध इसी दल के कुछ वरिष्ठ नेताओं ने मोर्चा खोल रखा है। इसे कांग्रेस के भीतर वर्चस्व की लडाई मानने वालों की कमी नहीं । जाहिर है कांग्रेस को अपने ही विधायक का ऐसे अचानक भगत सिंह बन कर अपनी ही सरकार के विरुद्ध कानून व्यवस्था का मुद्दा सार्वजनिक रुप से उठाना  रास नहीं आएगा तो दूसरी ओर भाजपा को बैठे बिठाए बडा मुद्दा हाथ लगने से वह बहुत खुश होगी।

No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com