-->

Breaking News

AIIMS डायरेक्टर ने 102 आउटसोर्सिंग नर्सिंग आफिसर को निकाला तो करेगे उग्र प्रदर्शन : रवि परमार | MP NEWS



एनएसयूआई एम्स के 102 नर्सिंग आफिसर के लिये जल्द करेगी सरमन सिंह की घेराबंदी



भोपाल : मध्य प्रदेश के एक मात्र एम्स भोपाल जो कि कुछ सालों से भ्रष्ट डायरेक्टर सरमन सिंह के हाथ में है जिससे डायरेक्टर की मनमानी ओर अपूर्ण ज्ञान के कारण एम्स बर्बाद होने की कगार पर आकर खड़ा हो चुका है यहां बात भली प्रदेश के मुखिया से लेकर एक आम नागरिक तक जानता है।
 
एनएसयूआई मेडिकल विंग के प्रदेश समन्वयक रवि परमार ने कहा कि हमने एम्स भोपाल के डायरेक्टर के भ्रष्टाचार से लेकर जो भी इनकी हरकतें उससे कई बार केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को अवगत कराने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं हुई इससे यहा तो स्पष्ट है कि मोदी सरकार के मंत्री भ्रष्ट अधिकारियों के साथ मिले हुए हैं।

रवि परमार ने बताया कि इसको कोरोना महामारी में जिन 102 आउटसोर्सिंग नर्सिंग ऑफिसर ( कोरोना योध्दाओ ) ने अहम भूमिका निभाई एम्स के डायरेक्टर  उन्हें बाहर का रास्ता दिखाते हुए निकालने के लिए 23 अगस्त तक का अल्टीमेटम भी दिलवा दिया उसके बाद जब नर्सिंग ऑफिसर ने नौकरी से ना निकालने के लिए डायरेक्टर से लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री प्रधानमंत्री तक को मेल और ट्वीट किए उसके बाद डायरेक्टर ने माफीनामा देने के लिए आउटसोर्सिंग नर्सिंग ऑफिसर पर दबाव बनाना चालू कर दिया हालांकि अभी किसी भी आउटसोर्सिंग नर्सिंग ऑफिसर नहीं माफीनामा लिखकर नहीं दिया है।


परमार ने कहा कि इस कोरोना महामारी अगर कोई भी नौकरी से निकालता है तो उसके ऊपर कार्यवाही होगी यह देश के प्रधानमंत्री ने खुद अपने उद्बोधन में कहा था लेकिन यहां तो कुछ और ही हो रहा है कार्यवाही डायरेक्टर पर होना चाहिए और एम्स प्रशासन आउटसोर्सिंग नर्सिंग ऑफिसर पर कार्रवाई करवाने की धमकी दे रहा है।

नर्सिंग ऑफिसर ने बताया कि कई आउटसोर्सिंग नर्सिंग आफिसर 7 साल से ओर कई 3 साल से कार्य कर रहे हैं  लेकिन ईशा प्रोटेक्शनल सिक्योरिटी गार्ड प्राइवेट लिमिटेड कंपनी ने 102 नर्सिंग ऑफिसर को  23 अगस्त के बाद नौकरी पर ना आने नोटिस थमा दिया उसके बाद जब नर्सिंग आफिसर ने इसका विरोध किया तो फिर कम्पनी कंपनी ने फरमान जारी कर माफीनामा देने के लिए कहा लेकिन इस महामारी मे नर्सिंग आफिसर को निकालना बिल्कुल भी उचित नहीं है।

रवि परमार ने कहा कि अगर एम्स प्रशासन और ईशा प्रोटेक्शनल सिक्योरिटी गार्ड प्राइवेट लिमिटेड कंपनी ने  नर्सिंग ऑफिसर को नौकरी  से निकालने के नोटिस वापस नहीं लिये तो एम्स के डायरेक्टर की गिरफ्तारी की मांग और कंपनी का लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन रद्द करने की मांग को लेकर एनएसयूआई उग्र प्रदर्शन करेगी।

 
 


No comments

सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रियता प्राप्त करते हुए एमपी ऑनलाइन न्यूज़ मप्र का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला रीजनल हिन्दी न्यूज पोर्टल बना हुआ है। अपने मजबूत नेटवर्क के अलावा मप्र के कई स्वतंत्र पत्रकार एवं जागरुक नागरिक भी एमपी ऑनलाइन न्यूज़ से सीधे जुड़े हुए हैं। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ एक ऐसा न्यूज पोर्टल है जो अपनी ही खबरों का खंडन भी आमंत्रित करता है एवं किसी भी विषय पर सभी पक्षों को सादर आमंत्रित करते हुए प्रमुखता के साथ प्रकाशित करता है। एमपी ऑनलाइन न्यूज़ की अपनी कोई समाचार नीति नहीं है। जो भी मप्र के हित में हो, प्रकाशन हेतु स्वीकार्य है। सूचनाएँ, समाचार, आरोप, प्रत्यारोप, लेख, विचार एवं हमारे संपादक से संपर्क करने के लिए कृपया मेल करें Email- editor@mponlinenews.com/ mponlinenews2013@gmail.com